Hathras Gangrape

Hathras Gangrape14 सितंबर को सामूहिक दुष्कर्म का शिकार हुई हाथरस गैंगरेप पीड़िता 15 दिन बाद जिंदगी से जंग हार गई है और पीड़िता ने मंगलवार सुबह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में अंतिम सांस ली.

14 सितंबर को हाथरस के चंदपा में 19 साल की बेटी के साथ गांव के ही 4 युवकों ने गैंगरेप किया था. आरोपियोंं ने उस मासूम पीड़िता के साथ दुष्कर्म ही नहीं किया था बल्कि उसकी गर्दन भी तोड़ दी थी और जीभ भी काटी थी.

9 दिन बाद पीड़िता को होश आया था. होश में आने पर पीड़िता ने इशारों में आपबीती बताई थी. हैवानियत के बाद भी वो आखिरी सांस तक जिंदगी के लिए जंग लड़ती रही और इंसाफ का इंतजार करती रही. मंगलवार को आखिरकार उसकी मौत हो गई. पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. अब परिजन दरिंदों के लिए फांसी की मांग कर रहे.

Hathras Gangrape

पीड़िता को इंसाफ की मांग ने सोशल मीडिया और जमीनी स्तर पर जोर पकड़ लिया है. पीड़िता की मौत के बाद गुस्साए लोगों ने हाथरस के चंदपा थाने के पास सड़क भी जाम कर दी है.

वहीं पीड़िता के भाई और पिता सफदरजंग अस्पताल में धरने में बैठ गए हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि हमारी अनुमति के बिना शव को अस्पताल से हाथरस ले जाया गया. हमें कोई पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं मिली और हमने किसी कागजात पर हस्ताक्षर भी नहीं किए.

वहीं पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए सोशल मीडिया पर भी  मुहिम छिड़ गई है. ट्विटर पर हैशटैग 7 बजे 7 मिनट, #JusticeForManisha, #JusticeForManisha के नाम पर कैंपेन की शुरुआत की गई है.

 

वहीं लोगों में यूपी की योगी सरकार के खिलाफ भी गुस्सा देखा जा रहा है. वहीं परिजनों का आरोप है कि उत्तर प्रदेश प्रशासन इस मामले को दबाने की कोशिश कर रहा है.

0 Comments

No Comment.