hindi

8 lakh students failed in hindi भारत के जिस राज्य में हिंदी बोलने वालों की संख्या सबसे ज्यादा है, उस राज्य में हिंदी विषय की परीक्षा में 8 लाख छात्र फेल हो गए हैं. कुछ दिनों पहले उत्तर प्रदेश बोर्ड की परीक्षाओं के परिणाम आए थे.  उत्तर प्रदेश में 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं देने वाले 8 लाख छात्र अपनी मातृभाषा हिंदी में पास नहीं हो पाए.

hindi

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद् की 10वीं कक्षा के हिंदी विषय की परीक्षा 28 लाख 75 हजार छात्रों ने दी थी और इनमें से करीब 5 लाख 27 हजार से ज्यादा छात्र इसमें फेल हो गए. यानी करीब 15 प्रतिशत छात्र फेल हो गए. इसी तरह 12वीं की बोर्ड परीक्षा में हिंदी विषय की परीक्षा 23 लाख 72 हजार छात्रों ने हिंदी की परीक्षा दी और करीब 2 लाख 70 हजार छात्र इसमें फेल हो गए. यानी करीब 10 प्रतिशत छात्र फेल हो गए.

उत्तर प्रदेश में 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में फेल होने वाले छात्रों की संख्या को जोड़ ली जाए तो ये आंकड़ा 7 लाख 97 हजार से ज्यादा हो जाता है.

ये है वजह

उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूलों में करीब 1 लाख 50 हजार शिक्षकों के पद खाली हैं. और अगर इसमें सहायक शिक्षकों के खाली पदों को भी जोड़ लिया जाए तो ये संख्या 2 लाख से ज्यादा हो जाती है. अगर छात्रों को पढ़ाने के लिए पर्याप्त संख्या में शिक्षक ही नहीं होंगे तो छात्र का प्रदर्शन ऐसा ही होगा. इसमें छात्रों की नहीं बल्कि शिक्षा व्यवस्था की गलती हैं.

भारत में हो रहा हिंदी का पतन

हिंदी – भारत में 52 करोड़ लोगों की भाषा है और पूरी दुनिया में करीब 59 करोड़ लोग हिंदी का प्रयोग करते हैं. लेकिन इसके बावजूद भारत में हिंदी का पतन दुख पहुंचाता है. लेकिन अंग्रेजी के मामले में ऐसा नहीं है. इंग्लिश प्रोफिसिएंसी इंडेक्स के मुताबिक भारत दुनिया के उन 11 देशों में शामिल है जहां अंग्रेजी पर अच्छी पकड़ रखने वालों की संख्या सबसे ज्यादा है. किसी देश में अंग्रेजी बोलने वालों की संख्या के मामले में भारत अमेरिका के बाद दूसरे नंबर पर है. भारत में लगभग 12 करोड़ लोग अंग्रेजी बोलने में सक्षम हैं.

हिंदी भाषा की उत्तपत्ति संस्कृत से हुई और संस्कृत करीब 5 हजार वर्ष पुरानी भाषा है. संस्कृत भाषा को दुनिया की ज्यादातर भाषाओं की जननी माना जाता है और यूरोपियन देशों में बोली जाने वाली भाषाएं संस्कृत से ही निकली हैं. लेकिन आधुनिक हिंदी साहित्य की शुरुआत करीब 700 से 800 वर्ष पहले हुई थी. इसके बाद जब मुगल और दूसरे विदेशी आक्रमणकारी भारत आए तो हिंदी में फारसी और दूसरी विदेशी भाषाओं का इस्तेमाल बढ़ने लगे और हिंदी हिंदुस्तानी में बदल गई. आज हिंदी भारत के करीब 10 राज्यों की प्रमुख भाषा है.

0 Comments

No Comment.