dilber negi

उत्तराखंड– आम आदमी पार्टी (आप) उत्तराखंड में आगामी विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की सभी 70 सीटों पर प्रत्याशी उतारेगी. यह ऐलान आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में किया. अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमने उत्तराखंड में सर्वे कराया है और उसमें 62 फीसद लोगों ने कहा कि हमें उत्तराखंड में चुनाव लड़ना चाहिए, तब हमने तय किया कि आम आदमी पार्टी उत्तराखंड में चुनाव लड़ेगी.

इस ऐलान के कुछ घंटो बाद बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने ट्विटर के जरिए उन पर निशाना साधा. मिश्रा ने ट्वीट करते हुए कहा कि “दिलबर नेगी के हत्यारों को उत्तराखंड की जनता जमानत जब्त कर भगाएगी.”

दिल्ली दंगे में मारे गए 20 साल के दिलबर सिंह नेगी को उत्तराखंड में हर कोई जानता है. विकासखंड थेलीसैंण के रोखड़ा गांव निवासी दिलवर सिंह 26 फरवरी को दिल्ली दंगो में मौत के घाट उतारा गया था. दिलबर नेगी परिवार का इकलौता सहारा थे जो कि दिल्ली में नौकरी करते थे.

20 वर्षीय दिलबर नेगी, अनिल स्वीट्स पर काम करते थे.यह दुकान शिव विहार तिराहे पर स्थित है जो दिल्ली दंगों में हिंसा का एक प्रमुख केंद्र रहा था. 24 फरवरी की रात को दंगो में नेगी की हत्या हुई थी.

नेगी का पूरी तरह से जला हुआ शव पुलिस को हत्या के दो दिनों बाद 26 फरवरी मिला था. उसकी पोस्टामार्टम रिपोर्ट परेशान करने वाली है. चेहरे के नैन-नक्श पहचाने जाने योग्य नहीं थे,शव क्षत-विक्षत अवस्था में मिला था, दोनों पैर नहीं थे, सर जल चुका था अंदर खोपड़ी की हड्डी दिख रही थी. उसके फेफड़े, हृदय, किडनी और लीवर कड़े हो गए थे.

आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता ताहिर हुसैन ने इस साल फरवरी में पूर्वोत्तर दिल्ली में हुए दंगों की साजिश रचने का आरोप कबूल कर लिया है.हालांकि ताहिर हुसैन के दंगों में पूरी तरह संलिप्तता सामने आने के बाद आप ने निलंबित कर दिया था. दिल्ली दंगों के दौरान हिंदुओं को निशाना बनाने के लिए ताहिर के घर का इस्तेमाल हुआ था. इसी घर में आईबी अधिकारी अंकित शर्मा की हत्या का आरोप है.

 Tahir Hussain

0 Comments

No Comment.