fit india pankaj mehta

Fit India हिटो पहाड़ व फिट इण्डिया (Hito Pahad & Fit India) का संदेश लेकर असम से साईकिलिंग कर अल्मोड़ा अपने गांव आ रहे जवान का अल्मोड़ा में अल्मोड़ा पुलिस ने किया भव्य स्वागत.

“मंजिल उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनों में जान होती है. पंख से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होती है”.यह कहावत तो आपने सुनी होगी लेकिन ऐसी कहानी को सच कर दिखाया है, अल्मोड़ा जिले के महत गांव के एयर फोर्स जवान पंकज मेहता ने जो शनिवार को असम के तेजपुर से 2030 किमी की दूरी साईकिल से तय कर अल्मोड़ा पहुंचे.

pankaj mehta
“मंजिल उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनों में जान होती है. पंख से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होती है”.

पंकज मेहता ने बताया की वह 13 सितम्बर को सुबह तीन बजे असम से उत्तराखण्ड जिले में अल्मोड़ा के अपने घर महत गांव के लिए निकले थे तथा वह 26 सितम्बर शनिवार को वो अल्मोड़ा में पहुंचे उन्होंने यह दुरी उन्होंने 14 दिन में पूरी की.

pankaj mehta
गांव पहुंचने पर गांव वालों ने ढोल नगाड़ों के साथ उनका भव्य स्वागत किया

उन्होंने कहा की वे अपने गांव में कोरोना महामारी को देखते हुए, उन्होनें लोगों को साइकिलिंग के माध्यम से फिट रहने के लिए जागरुक करेंगें. यहीं नहीं साइकिलिंग के माध्यम से लोगों को पहाड़ों की ओर आकर्षित करने और पहाड़ों पर पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये प्रेरित करेंगे. उत्तराखण्ड के पर्यटन स्थलों को निखारना और बाहरी राज्यों के लोगों को यहां की संस्कृति से रुबरु कराने के उद्देश्य से असम राज्य के तेजपुर से साइकिलिंग कर 13 दिनों में 2030 किमी की दूरी तय की गयी.

एसएसपी अल्मोड़ा श्री पी0एन0मीणा ने कहा कि वायुसेना के जाबाज़ जवान पंकज मेहता ने फिट इण्डिया (Fit India) को सही मायने में चरितार्थ किया है जो कि सभी के लिए फिट रहने हेतु प्रेरणा स्रोत हैं, पंकज के लिए यह चुनौतीपूर्ण था, मगर सपने साकार करने का जज्बा हो तो चुनौतियाॅ प्रेरणा बन जाती हैं.

Uttar News

0 Comments

No Comment.