Kargil war सबसे पहले कारगिल युद्ध Kargil war में देश के लिए सर्वस्व न्यौछावर करने वाले शहीद जांबाजों का भावपूर्ण नमन। Kargil war में भारतीय सैनिकों ने अपने साहस के दम पर पाकिस्तान के सैनिकों को Kargil से खदेड़ा था. करगिल युद्ध लगभग 60 दिनों तक चला और 26 जुलाई को उसका अंत हुआ. यह वो युद्ध था जिसमें हमने अपने 530 सैनिकों को खोया और करीब 1363 घायल हुए थे इस लड़ाई में पाकिस्तान के करीब तीन हजार सैनिक मारे गए थे Kargil युद्ध भारतीय सेना के साहस और जांबाजी का ऐसा उदाहरण है जिस पर हर देशवासी को गर्व होना चाहिए

Kargil War

kargil diwas भारत ने 26 जुलाई 1999 को कारगिल युद्ध (Kargil war) में विजय हासिल की थी. Kargil युद्ध में भारत की जीत के बाद से हर साल 26 जुलाई को कारगिल विजय दिवस (Kargil Vijay Diwas) मनाया जाता है. यह दिन कारगिल युद्ध में शहीद हुए जवानों के सम्मान हेतु मनाया जाता है. कारगिल युद्ध, जिसे ऑपरेशन विजय के नाम से भी जाना जाता है

Kargil war कैप्टन विक्रम बत्रा, परमवीर चक्र, 13 जम्मू-कश्मीर राइफल्स

कैप्टन विक्रम बत्रा, परमवीर चक्र
कैप्टन विक्रम बत्रा, परमवीर चक्र

Indian army वे एक चोटी को दुश्मन के कब्जे से छु़ड़ा चुके थे। पांच को मार गिराया। अपने जवानों को बंकर में छोेड़ खुद दुश्मन के करीब पहुंचे। अकेले हमला किया। दूसरी चोटी भी कब्जे में ली। 7 जुलाई को 1999 को शहीद हुए।

जुड़वां भाई को विक्रम का पहला पत्र

डियर कुश,
हमें बात किए काफी लंबा अरसा बीत गया। तुम्हारे ऑफिस में फोन लगाया था, लेकिन बात नहीं हो पाई। कैसे हो तुम? अब भी टाटा में काम कर रहे हो या कोई नया जॉब ढूंढ़ लिया? तुम्हारा बैंक ऑफ पंजाब का इंटरव्यू कैसा रहा? इधर सब ठीक है। कमांडो कोर्स से वापस आने के बाद मैं अपनी पुरानी लोकेशन पर तीन महीने रहा।

तुम न्यूज पढ़-सुन रहे होगे कि यहां माहौल गर्म है। मैं 15 हजार फीट की ऊंचाई पर बैठा हूं। पाकिस्तानियों से लड़ रहा हूं। सुरक्षा के कारण जगह का नाम नहीं लिख सकता। पर जिंदगी खतरे में है। कुछ भी हो सकता है यहां, हर रोज गोलियां और आर्टिलरी शेलिंग झेल रहा हूं। आज का दिन बहुत खराब रहा। मेरी बटालियन के एक ऑफिसर शहीद हो गए। इसलिए सभी यहां दुखी हैं।

…बाकी तो सब ठीक है। कुश… तुम पापा और मम्मी का ध्यान रखना। क्योंकि मैं कह ही चुका हूं कि यहां कुछ भी हो सकता है। पता नहीं मैं कब वापस आऊंगा। नॉदर्न कमांड में सभी की छुट्टी कैंसिल कर दी गई है। और कुछ नहीं है कहने को। सभी को मिस कर रहा हूं। मुझे जवाब लिखना।

कैप्टन मनोज पांडे,  परमवीर चक्र, 11 गोरखा राइफल्स, लखनऊ

Indian army दो दुश्मनों को मार गिराया। पहला बंकर नष्ट करते घायल हो चुके थे। खून बह रहा था। वह एक बंकर से दूसरे बंकर तक दुश्मन का खात्मा करते गए। आखिरी दुश्मन को मारकर ही आखिरी सांस ली।

दोस्त को लिखा हुआ खत-  चार बार मौत का सामना कर चुका हूं, अच्छे कर्म हैं इसलिए जिंदा हूं…

डियर पवन,

जितने लोगों को हो सके मेरा यह लेटर पढ़कर सुनाना। मुझे तुम्हारे दोनों पत्र मिले। दोनों लड़ाई के बीच में ही मिले। इस हाई एल्टीट्यूड पर दुश्मन के साथ लड़ाई सचमुच मुश्किल है। दुश्मन बंकर में छिपा है और हम खुले में हैं। दुश्मन पूरी प्लानिंग के साथ आया है और वह ज्यादातर चोटियों पर कब्जा कर चुका है। शुरुआत में हमारी स्थिति बहुत खराब थी, लेकिन अब हालात नियंत्रण में है। मैं खुद चार बार मौत का सामना कर चुका हूं। शायद कछ अच्छे कर्म के कारण अब भी जिंदा हूं। हर दिन हमें देशभर से चिटि्ठयां मिल रही हैं।

इसमें लिखा है– जस्ट डू इट। ये देखने में सचमुच अच्छा लग रहा है कि जरूरत और मुश्किल वक्त में हमारा देश एक हो जाता है। मैं नहीं जानता अगले ही पल क्या होगा, लेकिन मैं तुम्हें और देश को भरोसा दिलाता हूं कि हम दुश्मन को धकेल देंगे। इस ऑपरेशन ने इतना कुछ सिखाया है कि उसकी गिनती नहीं। इंडियन आर्मी सचमुच अद्भुत है। वह कछ भी कर सकती है। यहां बहुत सर्दी है, लेकिन बर्फ पिघलनी शुरू हो गई है। यदि सूरज निकल आए तो दिन ओके हो जाता है। रात में बहुत ठंड होती है माइनस 5 डिग्री। एक रिक्वेस्ट है… मेरे भाई को उसके अहम समय में गाइड करना। सभी दोस्तों को मेरा हैलो कहना। जब मैं लौटूंगा तो हमारे पास कई सारी बातें होंगी करने को। फिर बात करेंगे…।

तुम्हारा मनोज। 19 जून 1999

Indian army कैप्टन विजयंत थापर,वीर चक्र, 2 राजपुताना राइफल्स, नंगल

उनकी प्लाटून दुश्मन के आर्टिलरी फायर में जवान खो चुकी थी। शवों को सुरक्षित स्थान पर भेज वे दुश्मन पर टूट पड़े। वे घायल हो चुके थे। उन्होंने तब ही प्राण छोड़े, जब दुश्मन को मार भगाया।
डियर पापा, मम्मी, बर्डी और ग्रैनी

जब तक आप लोगों को मेरा यह खत मिलेगा, मैं दूर ऊपर आसमान से आप लोगों को देख रहा होऊंगा। मुझे कोई शिकायत, अफसोस नहीं है। और अगर मैं अगले जन्म में फिर से इंसान के रूप में ही पैदा होता हूं तो मैं भारतीय सेना में ही भर्ती होने जाऊंगा और अपने देश के लिए लडूंगा। अगर हो सके तो आप जरूर उस जगह को आकर देखना, जहां आपके कल के लिए भारतीय सेना लड़ रही है। जहां तक यूनिट की बात है नए लड़कों को इस शहादत के बारे में बताया जाना चाहिए।

मुझे उम्मीद है मेरा फोटो मेरे यूनिट के मंदिर में करनी माता के साथ रखा जाएगा। जो कुछ भी आपसे हो सके करना। अनाथालय में कुछ पैसे देना। कश्मीर में रुखसाना को हर महीने 50 रुपए भेजते रहना। और योगी बाबा से भी मिलना। बर्डी को मेरी तरफ से बेस्ट ऑफ लक। देश पर मर मिटने वाले इन लोगों का ये अहम बलिदान कभी मत भूलना। पापा आप को तो मुझ पर गर्व होना चाहिए। मम्मी आप मेरी दोस्त से मिलना, मैं उससे बहुत प्यार करता हूं। मामाजी मेरी गलतियों के लिए मुझे माफ कर देना। ठीक है फिर, अब समय आ गया है जब मैं अपने साथियों के पास जाऊं। बेस्ट ऑफ लक टू यू ऑल। लिव लाइफ किंग साइज।

 

यह पत्र करगिल से 1 जुलाई 1999 को सिपाही नरेश जाट ने अपने दादाजी को राजस्थान के भालौत, झुंझुनूं लिखा था।

दादाजी लड़ाई चल रही है, लेकिन आप दिल छोटा मत करना। मैं पीछे नहीं हटूंगा। जरूरत पड़ी तो जैसे पिताजी ने 1971 की लड़ाई में अपना बलिदान दिया था, मैं भी दूंगा।

पिता विंग कमांडर जगन्नाथ आचार्य को 19 जून 1999 को लिखा मेजर पी. आचार्य का पत्र।

आप मौत के बारे में मत सोचिए। मौत की कैसी चिंता। आप हर रोज चारू (पत्नी) को महाभारत की एक कहानी सुनाया करिए। इससे आपके होने वाले पोते या पोती को अच्छे संस्कार मिलेंगे।

बेटी को 26 जून को ग्रेनेडियर अमिरुद्दीन का पत्र। ये पत्र उनकी बेटी को मैनपुरी यूपी में 4 जुलाई को मिला। पत्र के साथ ही परिवार को उनकी शहादत की खबर मिली।

बेटी तुम अपना मैट्रीकुलेशन का फॉर्म समय पर भर देना। मेरा इंतजार मत करना। मैं कुछ दिन बाद लौटकर आऊंगा। जब युद्ध खत्म होगा।

पत्नी राजकुंवर को हवलदार रामसिंह शेखावत ने 3 जुलाई 1999 को यह पत्र लिखा था। पत्र लिखने के बाद वह घर नहीं आ पाए। पत्र शव के साथ ही आया।

आपको कसम तो लगती नहीं, आपने बच्चों के लिए घी वगैरह तो लिया नहीं होगा। आपकी और बच्चों की बहुत याद आती है। आप जल्दी ही पत्र लिखना।

सूबेदार मेजर रामपाल सिंह, 34 राष्ट्रीय राइफल्स, झुंझुनू, 12 जुलाई 1999

लौटा तो पांच महीने घर पर ही रहूंगा, बाकी सात महीने सीमा पर…

प्रिय विमला,
खुश रहो। मैं यहां ठीक हूं। आशा करता हूं कि आप भी ईश्वर की कृपा से वहां कुशल होंगे। समाचार यह है कि छुट्टी के बारे में तो आपको पता ही है, सो इसके बारे में लिखने की जरूरत नहीं समझता। विकास का पत्र आया था। मेरी तरफ से कोई फिक्र मत करना। ज्यादा गर्मी में काम नहीं करना है। सुबह शाम जितना होता है कर लेना। सिर्फ उधर ही ध्यान रखना, मेरी चिंता नहीं। अभी मैं पूरी छुट्टी काटूंगा, जमा नहीं कराऊंगा। जब भी मिलेगी, मैं आ जाऊंगा। सो तकरीबन 12 महीने हैं, जिसमें पांच महीने घर और सात महीने ही घर से बाहर सीमा पर रहूंगा। खत आप खुद लिखना।

हवलदार मनीराम, जाट रेजिमेंट, झुंझुनू, 2 मार्च 1999

आपको खुशी होगी कि मैंने शराब बिल्कुल ही छोड़ दी…

पूज्य पिताजी, चरण स्पर्श।
मैं यहां कुशल रहते हुए आप सभी की कुशलता की कामना करता हूं। आगे समाचार यह है कि मैं यह दूसरा पत्र लिख रहा हूं। सो पत्र मिलते ही इसका जवाब शीघ्र देना। मैं अगले महीने की पांच तारीख को छुट्टी पर आने की कोशिश करूंगा। ताकि लावणी भी करवा सकूंगा और शादी भी हो जाएगी। बस जल्दी है तो आप सबसे मिलने की। वरना मैं खूब मजे में हूं। यहां सर्दी तो बहुत ज्यादा है। बाकी सबकुछ ठीक है।

आप लोगों को यह जानकर बहुत खुशी होगी कि मैंने शराब बिल्कुल छोड़ दी है। ज्वार बेच देना। दीपक व पवन की परीक्षा होने वाली है। सो उनको बताना कि दोनों खूब मन लगाकर पढ़ेंं। छुट्टी आने के बाद ये जो कहेंगे वो ही चीज लाकर दूंगा। बाकि सभी पत्र पढ़ने और सुनने वालों को मेरा राम-राम बांचना। बच्चों को प्यार। शेष कुशल से हूं।

कारगिल की ये चुनिंदा अमर चिट्ठियां

हमें सोशल मीडिया पे फॉलो करने के लिए यहाँ क्लिक करे 👉 Facebook  Twitter

Thank you धन्यवाद

0 Comments

No Comment.