ईमानदारी की मिशाल :

केदारनाथ- गौरीकुंड के समीप सीतापुर गांव के राकेश सिंह रावत को 25 लाख रुपये मूल्य की हीरे जडि़त एक अंगूठी मिली. राकेश सिंह ने उस अंगूठी को उसके मालिक अलवर के राजन शर्मा तक पहुंचा दिया. इस घटना ने एक बार फिर उत्तराखंड की लोगों ईमानदारी की छवि को प्रमाणित किया है.

अलवर के रहने वाले राजन शर्मा 14 सितम्बर को बाबा केदार के दर्शन को आए थे. मंदिर से वापस लौटते समय उनकी उंगली से अंगूठी गुम हो गयी थी. उसके बाद उन्होंने सोनप्रयाग थाने पहुंच कर अंगूठी खोने की रिपोर्ट लिखाई और वापस अलवर चले गए. कुछ समय बाद राकेश सिंह रावत थाने पहुंचे. उन्होंने बताया कि उद्क कुंड के पास एक अंगूठी पड़ी मिली है. इस अंगूठी का विवरण राजन शर्मा की अंगूठी से मेल खाता था.

ईमानदारी की मिशाल :

थाना अघ्यक्ष होशियार सिंह पंखोली ने राजन शर्मा से मोबाइल पर संपर्क साधा. राजन शर्मा वापस थाना सोनप्रयाग पहुंचे. 16 सितम्बर को पुलिस ने अपने पास रखी अंगूठी उन्हें वापस की और राजन शर्मा ने बताया कि इस अंगूठी की बाजार में कीमत लगभग 25 लाख रुपये है. वे राकेश सिंह को इनाम देना चाहते थे. राकेश इसके लिए तैयार नहीं थे. कुछ गणमान्य लोगों के समझाने पर राकेश ने 25 हजार रुपये का इनाम स्वीकार कर लिया.

0 Comments

No Comment.