china

हम आपको एक ऐसी खबर बताने जा रहे हैं जिसका संबंध देश के 137 करोड़ लोगों की सुरक्षा से है. ये खबर पूरे देश को सावधान करने वाली है. भारत के खिलाफ चीन की एक बड़ी साजिश का खुलासा हुआ है और इस साजिश में पाकिस्तान भी शामिल है.

जैविक युद्ध वाली साजिश का खुलासा

भारत के खिलाफ चीन-पाकिस्तान की जैविक युद्ध वाली साजिश का खुलासा हुआ है. आतंक के पनाहगार मुल्क पाकिस्तान और वायरस का जन्मदाता देश चमगादड़ चीन ने वुहान लैब में जैविक हथियार बनाने के लिए 3 साल का गुप्त समझौता किया. आपको बता दें ये जानकारी इंटेलीजेंस सूत्रों के हवाले से सामने आई है.

खबर ये है कि चीन और पाकिस्तान मिल कर भारत के खिलाफ जैविक युद्ध की तैयारी कर रहे हैं. जैविक युद्ध का मतलब महाविनाश.. क्योंकि पारंपरिक हथियारों के मुकाबले जैविक हथियारों से विनाश बहुत ज्यादा होता है. खबर है कि चीन और पाकिस्तान मिल कर चोरी छिपे खतरनाक जैविक हथियार बना रहे हैं. सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि पश्चिमी देश भी इन हथियारों के निशाने पर हैं.

वुहान के बाद चीन का सबसे ‘विनाशकारी प्लान’

अब हम आपको एक और अहम बात बताते हैं. खास बात ये है कि चीन की जिस लैब के साथ पाकिस्तान की सेना ने जैविक हथियार बनाने का करार किया है, वो वही लैब है जहां से कोरोना निकलने का शक जताया जाता है. अब इसी लैब में चीन और पाकिस्तान मिल कर जैविक हथियार तैयार करेंगे. ये दावा एक इंटरनेशनल रिपोर्ट में किया गया है. इसमें कहा गया है कि साजिश के तहत एंथ्रेक्स जैसे खतरनाक वायरस पर काम किया जाएगा.

संक्रामक बीमारियों वाले वायरस को हथियार की तरह इस्तेमाल करने की साजिश है. निशाने पर भारत के अलावा पश्चिमी देश जैसे अमेरिका हैं. इन देशों को संक्रामक बीमारियों के वायरस से निशाना बनाया जाएगा. ऐसा दावा किया जा रहा है कि रिसर्च पर होने वाला खर्च चीन की वुहान लैब ही उठाएगी

चीन और पाकिस्तान के संयुक्त साजिश की बात सामने आने पर भारत पूरी तरह सावधान है. लेकिन चीन और पाकिस्तान को ये बात अच्छे से समझ लेनी चाहिए कि वो चाहे जितनी षड्यंत्रकारी नीति को अपना हथियार बनाए, हिन्दुस्तान की कूटनीति और रणनीति के आगे उनकी एक नहीं चलने वाली है.

0 Comments

No Comment.